छोड़कर सामग्री पर जाएँ

क्या आप जानते हैं, खिलौने के बिजनेस में कितना पोटेंशियल है?

5
(1)

How to Start Toys Business in Hindi(खिलौनों का बिजनेस) : बच्चों से जुडी कोई भी चीज हो काफी ट्रेंडिंग में रहती है. बात जब खेलने की होतो बच्चे किसी की नहीं सुनते, वे अपनी पसंद का खिलौना लेकर ही मानते हैं. बच्चों को खिलौने बहुत अजीज होते हैं, पहले खिलौने घर पर ही बना दिए जाते थे, लेकिन वर्तमान में लोग बाजार से खरीदना पसंद करते हैं और बच्चो को भी सुंदर और नये नये खिलौने चाहिए. टेक्नोलॉजी इतनी बढ़ गई है कि खिलौने भी अब स्मार्ट होने लगे हैं. बाजार में जैसा चाहिए वैसा खिलौना मिल जाता है, जैसे : बैटरी से चलने वाले टॉयज, सॉफ्ट टॉयज, विडियो गेम्स, गैजेट्स, किड्स व्हीकल्स, रोबोटिक टॉयज आदि बहुत से खिलौने हैं.

खिलौने का बिजनेस ही क्यों करें ?

इस बिजनेस को शुरू करने से पहले आपके दिमाग में ये सवाल जरुर आया होगा. आपको सर्वप्रथम यह जानना आवश्यक है कि, आप बच्चों के खिलौने का बिजनेस क्यों शुरू करना चाहते हैं और बाजार में इसकी कितनी मांग है?

खिलौनों और बच्चों को कोई अलग नहीं कर सकता, बच्चों को टॉयज काफी पसंद आते हैं, बाजार में इन्हें कोई खिलौना पसंद आ जाए तो फिर इसे खरीदे बिना घर नहीं जाएंगे. दुनिया भर में कई लाखो प्रकार के खिलौने तैयार होते हैं, इन्हें बच्चो की पसंद को ध्यान में रखकर ही बनाया जाता है.

वर्तमान में ऐसे बच्चों के खिलौने ज्यादा चलन में है जिनसे खेल-खेल में बच्चा कुछ सीखें भी सकता है. अब खिलौने बच्चो की दिमागी कसरत करवाने के लिए भी आने लगे हैं तो इन सब बातों के कारण खिलौनों का बिजनेस काफी बेहतर बन गया है और भविष्य में ये और अधिक बढ़ने वाला है. यदि आप भी खिलौने का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो बहुत ही कम समय में इसमें अच्छा मिलने की संभावना है. आज आप इस लेख के माध्यम से जानेंगे की एक अच्छे खिलौने की शॉप कैसे शुरू कर सकते हैं?

खिलौने के बिजनेस की शुरुआत कैसे करें?

खिलौना व्यवसाय को शुरू करने के लिए आपको किसी खास स्किल या कोर्स की आवश्यकता नहीं है. इसे शुरू करने के लिए बस आपका दिमाग थोड़ा क्रिएटिविटी वाला होना चाहिए. इसके अलावा आपको अपने मार्केट में इसके बारें में पर्याप्त रिसर्च करनी होगी, ताकि आप बाजार को जन पाओ और कम्पटीशन के बारे मे भी पता चल सके, साथ ही आपको ये भी जानना चाहिए कि, आपके बाजार में किस तरह के टॉयज की अधिक डिमांड रहती है और कौनसे खिलौने ऐसे हैं जिनकी मांग तो है लेकिन वो मार्केट में उपलब्ध नहीं हैं.

How to Start Toys Business in Hindi | खिलौनों का बिजनेस
How to Start Toys Business in Hindi | खिलौनों का बिजनेस

इन सब बातों को जानने के लिए आपको अपनी सिटी में पहले से ही मौजूद बच्चों के खिलौने की शॉप में जाकर इस बात की पड़ताल करनी होगी कि, बाजार में किस तरह के खिलौनों की अधिक बिक्री होती हैं और कौन-कौन से प्रकार के खिलौने बच्चो द्वारा बहुत ज्यादा पसंद किए जाते हैं. आजकल बैटरी तथा रिमोट से चलने वाले खिलौनों की भी काफी अधिक डिमांड है. साथ ही बढती टेक्नोलॉजी में कुछ रोबोटिक टाइप के खिलोने भी मार्केट में आने लगे हैं.

खिलौनों की शॉप किस जगह खोलें?

खिलौनों की शॉप शुरू करने के लिए आपको एक अच्छे स्थान की तलाश करनी होगी. खिलौने के बिजनेस के लिए आप व्यस्त बस स्टैंड, रेलवे-स्टेशन, मॉल, मार्केट में भीड़भाड़ वाला एरिया, किड्स स्कूल के नजदीक, बच्चों की हेयर सैलून एरिया के पास और बच्चों की हॉस्पिटल, गार्डन के पास आदि जगह पर आप खिलौनों का स्टोर शुरू कर सकते हैं. यह सब ऐसी जगह हैं जहां आपके टॉयज आसानी से बिक जाएंगे और आपको कस्टमर्स के लिए परेशान भी नहीं होना पड़ेगा.

खिलौनों का बिजनेस शुरू करने के लिए आपको 400 वर्गफुट स्थान की आवश्यकता होगी. दरअसल यह एक ऐसा व्यवसाय है जिसके लिए ज्यादा जगह की आवश्यकता पड़ती है क्योंकि प्लास्टिक और सॉफ्ट खिलौनों को रखने के लिए ज्यादा स्पेस चाहिए वरना ये खराब या टूट जाते हैं.

खिलौनों के बिजनेस शुरू करने के लिए कितना निवेश करना होगा?

यदि आप खिलौनों के बिजनेस(टॉयज बिजनेस) को छोटे पैमाने पर शुरू करते हैं तो आपको सिर्फ 10 से 30 हजार तक निवेश करना होगा, इस कम पैसो के बिजनेस में आप एक अच्छा और पर्याप्त खिलौना स्टोर शुरू सकते हैं. यदि आपके पास अधिक बजट है और आप अधिक पूंजी का निवेश Toys Busienss में कर सकते हैं, तो आप 1-2 लाख रू. लगाकर भी खिलौनों की दुकान स्टार्ट कर सकते हैं.

बच्चों के खिलौने के व्यवसाय के लिए आवश्यक लाइसेंस

बड़े स्तर पर खिलौना व्यवसाय की शुरुआत करने के लिए लाइसेंस बनवाना अनिवार्य हो जाता है. इसके साथ ही आपको उन सभी ब्रांड के उचित प्राधिकरण की आवश्यकता भी होगी जिन ब्रांड के खिलौने आप बेच रहे हैं. यदि आप खिलौने का बिजनेस लंबे समय तक करना चाहते हैं तो ये कानूनी कार्य पहले ही पूर्ण कर ले ताकि आपको भविष्य में किसी प्रकार की समस्या न आए.

खिलौने की दुकान के लिए एक सरल और यूनिक नाम चुने

आपको अपनी खिलौने की दुकान के लिए ऐसे ब्रांडेड नाम का चुने जो बच्चो के लिए बोलने में आसान हो, तुरंत याद होने वाला और सुनने में आकर्षक हो. एक आकर्षक नाम का प्रभाव आपके पूरे खिलौने व्यवसाय पर पड़ता है और इसी ब्रांडेड नाम से आपकी विश्वभर में पहचान होती है. ऐसे में सही नाम के चुनाव में जल्दबजी ना करें, आप अपने परिजनों या मित्रो की सहयता भी ले सकते हैं, या ऑनलाइन बिजनेस नाम जनरेटर जैसे टूल्स की मदद भी काफी अच्छी साबित हो सकती है.

टॉयज स्टोर में किस तरह के खिलौने रखने चाहिए ?

आपको खिलौने की दुकान में बच्चों से जुड़े हुए सारे अच्छे और ट्रेंडिंग खिलौने रखना जरुरी है, इसके लिए आप समय-समय पर होलसेल विक्रेता से नए खिलौने के फोटो मंगाते रहें, ताकि जब बच्चे या उनके माता-पिता आपकी खिलौना शॉप में आते हैं तो उन्हें सभी तरह के खिलौने आसानी से मिल जाए, अगर उनकी पसंद आपके पास मिल जाएगी तो आपका बिजनेस बहुत जल्दी सफल होने लगेगा और आप को अधिक से अधिक कस्टमर्स मिलेंगे.

टॉयज स्टोर में सॉफ्ट खिलौने, रिमोट गाड़ी, सामान्य प्लास्टिक वाली गाड़ी, बैटरी से चलने वाली गुड़िया, बच्चों के लिए खास वॉकर, झूला, रिक्शा, उड़ने वाली प्लेन टॉयज, प्लास्टिक की ट्रेन, इसके साथ ही बच्चों के लिए सिखने से संबंधित खिलौने भी रखना चाहिए, जिनसे बच्चे खेल-खेल में शिक्षा पाते हैं. कोशिश करें कि, आपकी दुकान में आने वाला कोई भी कस्टमर वापस खाली हाथ न जाएँ. उसे उनकी पसंद दिलाने में आप मदद करें. शुरूआत में आप कम मुनाफा भी कमा रहें हैं, लेकिन आगे आप अच्छा मुनाफा कमाएंगे. इसलिए कीमत के साथ अड़े ना रहें उन्हें कस्टमर के हिसाब से थोड़ा लचीला रखें.

खिलौना स्टोर के लिए थोक में माल कहाँ से खरीदें?

अपने बच्चों के खिलौने सेंटर के लिए थोक में माल लेने के लिए आपको खिलौने बनाने वाली विभिन्न कंपनियों से कांटेक्ट करना होगा. इसके अलावा हर बड़े शहर में कोई न कोई खिलौने का बड़ा बाजार होता ही है जहां बड़ी संख्या में खिलौने बिकते हैं. ऐसे में आप इन थोक विक्रेताओं से संपर्क करें और उनसे अपने लिए हर महीने खिलौने देने की बात करें. यदि आप दिल्ली शहर के आसपास के क्षेत्र में ही रहते हैं तो आप दिल्ली का प्रसिद्ध सदर बाजार या चांदनी चौक जैसी जगह से थोक में बहुत से खिलौने खरीद कर ला सकते हैं. यह जगह भारत में खिलौने के लिए सबसे मशहूर जगह मानी जाती है.

अधिक से अधिक खिलौनों को कैसे बेचें

वर्तमान समय में खिलौनों बेचना बहुत ही आसान कार्य है, क्योंकि सभी को खिलौने चाहिए होते हैं, और इसे बेचने के भी कई तरीके होते हैं. आप मार्केट शॉप ओपन कर खिलौनों को बेच सकते हैं. अगर आप चाहे तो महंगे खिलौनों को किराए पर देकर भी अच्छा पैसा बना सकते हैं. इसके अलावा आप अपने खिलौनों को ऑनलाइन प्लेटफार्म के द्वारा भी बेच सकते हैं. इसके लिए आप अमेज़न, फ्लिपकार्ट जैसी साइट पर सेलर अकाउंट बनाकर अपने खिलौनों को बेच सकते हैं.

खिलौने के बिजनेस की मार्केटिंग कैसे करें?

यदि आप अपनी खिलौनों की शॉप बड़े बस-स्टैंड,किड्स प्ले ग्राउंड, रेलवे-स्टेशन, किड्स स्कूल, किड्स या अन्य मार्केट, चाइल्ड हॉस्पिटल या टैक्सी स्टैंड के नजदीक शुरू करते हैं तो ऐसे में खिलौनों की बिक्री भी अच्छी होगी और साथ ही आपकी शॉप की मार्केटिंग भी अधिक होगी. इसके अलावा मार्केटिंग के लिए टॉयज स्टोर के नाम के पंपलेट छपवा कर अपनी सिटी में बंटवा सकते हैं. इसके साथ ही आप शहर के बाजारों में अपने टॉयज बिजनेस के नाम से आकर्षक होर्डिंग लगवा सकते हैं.

आप चाहे तो खिलौने की दुकान की अच्छी मार्केटिंग के लिए सोशल मीडिया प्लेटफार्म की भी सहायता ले सकते हैं, जो वर्तमान मे मार्केटिंग के लिए काफी पॉपुलर हो रहे हैं. वर्तमान में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स के द्वारा किसी भी व्यवसाय की मार्केटिंग सही पैमाने पर कर सकते हैं. दरअसल सोशल मीडिया एक ऐसा चर्चित प्लेटफार्म है जिसके द्वारा आप अधिक से अधिक लोगों को बहुत जल्दी जोड़ सकते हैं और उनके साथ बने भी रह सकते हैं.

ऐसे में आप इंस्टाग्राम, ट्विटर और फेसबुक जैसे पॉपुलर सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर अपनी दुकान के नाम से पेज बना सकते हैं और इस पेज पर खिलौनों के बारे में जानकारी और उनके अच्छे फोटो डाल सकते हैं, यहाँ से आपके पास कस्टमर्स और सेल दोनों आएँगी. अगर आप करना चाहो तो अपने कस्टमर्स के लिए होम डिलीवरी की सर्विस भी दे सकते हैं जो वर्तमान मार्केट की डिमांड है.

खिलौनों के बिजनेस से कितना मुनाफा हो सकता है?

खिलौने का बिजनेस एक ऐसा बढ़ता हुआ व्यवसाय है जिसमें आप कभी भी नुकसान में नहीं जाओगे. दरअसल टॉयज एक ऐसा आइटम होता है जिसके ना तो खराब होने की टेंशन होती है और न ही इसकी कीमत कम ज्यादा होती रहती है. ऐसे में इसकी बिक्री करने की किसी प्रकार की जल्दी नहीं रहती है, और न ही इनकी कोई फिक्स कीमत होती है, इसलिए आप अपने मार्केट के अनुसार और ग्राहक के अनुसार खिलौनों की कीमत फ्लेक्सिबल रख सकते हैं, जिससे कस्टमर आपकी दुकान से कुछ न कुछ लेकर जाएंगे.

यदि एक खिलौना 100 रुपए का आपको आटा है तो उसे आप आसानी से 150 से 200 रुपए तक बेच सकते हो. हर दिन किसी न किसी बच्चे का जन्मदिन आता है ऐसे में रोज काफी संख्या में खिलौनों की बिक्री होती है. एक अनुमान के अनुसार, इस बिजनेस में आप हर महीने कम से कम 40 से 50 हजार तक का मुनाफा कमा सकते हैं. अगर इसे बड़े स्तर पर किया जाए तो ये आसानी से एक लाख तक के मुनाफे पर पहुंच सकता है.

FAQs About How to Start Toys Business in Hindi

  1. क्या भारत में खिलौना व्यवसाय लाभदायक है?

    भारत में खिलौना उद्योग बहुत ही आकर्षक है. यह उद्यमियों के लिए विभिन्न अवसर प्रदान करता है. इसके अलावा, एक खिलौना बच्चों के लिए शिक्षा को सुखद बनाता है. इसके अलावा, प्ले स्कूलों की बढ़ती संख्या ने इन उद्योग में बढ़ोतरी हुई है. अच्छे से जानने के लिए ये लेख आपको जरुर पढना चाहिए.

  2. मैं अपनी खुद की खिलौना कंपनी कैसे शुरू कर सकता हूं?

    एक लाभदायक खिलौना व्यवसाय शुरू करने के लिए
    1. सबसे पहले एक तय बजट की व्यवस्था करें
    2. मार्केट रिसर्च करें और स्थान का चुनाव करें
    3. नए नए खिलौने बनाने के आईडिया ढूंढें
    4. खिलौने मजेदार बनाने पर काम करें
    5. एक ब्रांड नाम सोचें
    6. कानूनी प्रक्रिया पूरी करें
    7. ब्रांड नाम और ट्रेडमार्क रजिस्ट्रेशन करवाएं
    8. आवश्यक मशीनरी स्थापित करें
    9. स्टाफ का चयन करें
    10. अब काम शुरू करें और मार्केटिंग के साथ आगे बढ़ें.
    लेख पढ़ें और कुछ अच्छी बाते जानें

  3. भारत में खिलौना उद्योग का भविष्य क्या है?

    एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय खिलौना बाजार, जिसका वर्तमान में अनुमान 1 अरब डॉलर है, में 2025 तक खुद को दोगुना करने की क्षमता है.

😊 यह पोस्ट कितनी अच्छी थी?

5 Star देकर इसे बेहतर बनाएं ⬇️

Average rating 5 / 5. Total rating : 1

रेटिंग देने वाले पहले व्यक्ति बनें

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.