छोड़कर सामग्री पर जाएँ

बिजनेस से पहले करो मार्केट रिसर्च | आखिर ये मार्केट रिसर्च क्या होती है ? | What is Marketing Research in Hindi

3
(2)

What is Marketing Research in Hindi : कोई भी व्यवसाय शुरू करने से पहले उससे संबंधित रिसर्च करना अतिआवश्यक है. अजब भी आप किसी भी बिजनेस के लिए बिजनेस पालन बनाते हैं तो उसमें मार्केट रिसर्च महत्वपूर्ण अंग होता है. आप चाहे छोटा या बड़ा कैसे भी व्यवसाय शुरू करने जा रहें है, हर बिजनेस पहले मार्केट के बारे में जानकारी चाहता है और मार्केट रिसर्च का बिजनेस की success में महत्वपूर्ण योगदान होता है.

बिजनेस रिसर्च में आप अपने प्रोडक्ट बेचने के लिए क्या स्ट्रेटेजी अपनाओगे, प्रोडक्ट के लिए कैसे लोग टारगेट करोगे, मार्केट में कौनसा स्थान अच्छा रहेगा, बिजनेस का समय क्या रहेगा, आपका प्रोडक्ट ऑनलाइन रहेगा या ऑफलाइन, आदि सबके बारे में आप मार्केट रिसर्च के बाद ही पता कर सकते हैं.

मार्केट रिसर्च से आप वर्तमान में चल रही नई-नई स्ट्रेटेजी को जानकर अपने बिजनेस को फायदा पहुंचा सकते हैं, तो आइये जानते हैं आज मार्केट रिसर्च के बारे में सबकुछ :-

क्या आप जानते हैं कि मार्केट रिसर्च क्या होती है?

मार्केट रिसर्च किसी भी संस्था, बिजनेस, दुकान या स्टोर द्वारा मार्केट की अपने बिजनेस के लिए रिसर्च का वो प्रयास होता है जिसमें, प्रोडक्ट्स के बारे में जानकारी जुटाई जाती है, टारगेट कस्टमर को पहचाना जाता है, मार्केट की मांग को समझा जाता है और भी बहुत सी जानकारियां जुटाने की कोशिश की जातिही जिनसे व्यवसाय को अधिक से अधिक लाभ मिल सके.

  • सभी प्रकार के बिजनेस अपने कर्मचारी या स्वयं मार्केट में जाकर लोगों से जानकारियां जुटाते है, और एक डाटा तैयार करते हैं.
  • जैसे पहले से मौजूद अपने समान प्रोडक्ट किस वजह से प्रसिद्द है और इसमें ऐसी कौनसी गुणवता है.
  • कैसे प्रोडक्ट किस समय चलते हैं, और वो किस समय तक मांग से बाहर होने लगेंगे. लोगों की मौजूदा प्रोडक्ट्स के साथ क्या नई मांग है जो नई कंपनी या व्यवसाय या दुकान या स्टोर पूरी कर सकता है, जिससे वह उनसे अलग हो सके.
  • सभी जानकारियों से ही बिजनेस अपने प्रोडक्ट, प्राइस और मार्केटिंग तय करता है.
  • मार्केट में प्रोडक्ट्स की मात्रा, क्वालिटी और कीमत बहुत ही मायने रखती है.
  • कई बार बिजनेस अपनी मार्केट रिसर्च में सोशल ओपिनियन और फिजिकल ओपिनियन को भी शामिल करते हैं.
  • मार्केटिंग का अर्थ होता है कि कस्टमर्स तक अपने प्रोडक्ट्स या सेवाओं के बारे में जानकारी कैसे पहुंचाएं और उन्हें खरीदने के लिए कैसे प्रेरित करें.
  • मार्केट रिसर्च का अर्थ है कि, वर्तमान समय में हमारे प्रोडक्ट या सेवा जैसे पहले से मौजूद प्रोडक्ट के बारे में मार्केट क्या कहता है, और हमें उसमें किस प्रकार के बदलाव करने चाहियें.
  • मार्केट रिसर्च में ग्राहकों से अपने प्रोडक्ट्स या सेवाओं से जुड़े डाटा प्राप्त करने की कोशिश की जाती है.

आप अक्सर देखते हैं कि, आप जब भी गूगल या अन्य शौपिंग साईट पर जाकर कुछ भी सर्च करते हैं तो आगे के कुछ दिन आपको गूगल उस प्रोडक्ट या सेवा से संबंधित विज्ञापन आपको दिखाने लगता है, ये मार्केट रिसर्च ही है, क्योंकि गूगल आपकी पसंद को जान लेता है और फिर उससे जुड़े अपने विज्ञापन आप को सर्व है.

शायद अब आप जान गये होंगे की मार्केट रिसर्च क्या होती है. अब हम आगे जानेंगे की हमारे बिजनेस के लिए मार्केट रिसर्च कैसे फायदेमंद हैं, वो कौनसे कारक है जिनपर इसका प्रभाव पड़ता है.

वर्तमान में पहले से मौजद कंपनियों के साथ टिक पाना मार्केट रिसर्च के कारण ही मुमकिन है, उससे ही आपको कुछ ऐसी जानकारियां मिल सकती हैजो आपको अलग और बेहतर बनने में मदद करती है.

इन सब बातों के कारण हम कह सकते हैं कि मार्केट रिसर्च किसी भी बिजनेस / कंपनी को अपना प्रोडक्ट या सेवाओं को बेचने के लिए महत्वपूर्ण टूल है.

मार्केट रिसर्च के प्रकार

  • प्राथमिक रिसर्च (Primary research) : जब आप स्वयं मार्केट में रिसर्च कर डाटा एकत्रित करते हैं, जैसे: इंटरव्यूज, सर्वे और पब्लिक पोल
  • द्वितीयक रिसर्च (Secondary research) : जो डाटा किसी अन्य ने एकत्रित किया है और उसे प्रकाशित किया जा चुका है, उसे अपने बिजनेस के लिए इस्तेमाल करना. इस रिसर्च के स्वामी आप नहीं होते हैं.
  • गुणात्मक रिसर्च (Qualitative research) : गुणात्मक मार्केट रिसर्च प्राथमिक और द्वितीयक दोनों तरह के होते हैं. इसकी कोई संख्या नहीं होती है, ये एक व्यवहारिक गणना है. इसलिए इसे मापना कठिन है.
  • मात्रात्मक रिसर्च (Quantitative research) : मात्रात्मक मार्केट रिसर्च प्राथमिक और द्वितीयक दोनों तरह के होते हैं. ये संख्यात्मक होते हैं, इसलिए इन्हें आसानी से एकत्रित किया जा सकता है.
  • ब्रांडिंग रिसर्च (Branding research) : ब्रांडिंग मार्केट रिसर्च कंपनी को ब्रांड बनाने, प्रबंधित करने और बनाए रखने में मदद करता है. इसमें कंपनी की सेवाओं, ब्रांडिंग, छवियों, मूल्यों की पहचान की जाती है, जिससेपता चलता है, ब्रांड को लोग कितना पसंद करते हैं और किस कारण करते हैं.
  • ग्राहक रिसर्च (Customer research) : ग्राहक मार्केट रिसर्च आपके टारगेट कस्टमर पर प्रमुख प्रभावों को देखता है और उनकी डिमांड को समझते हुए प्रोडक्ट्स में बदलाव करने में सहायक होता है.
  • प्रतिस्पर्धी रिसर्च (Competitor research) : प्रतिस्पर्धी मार्केट रिसर्च के द्वारा आप जान सकते हैं कि आपकी प्रतिस्पर्धा में कौनसा बिजनेस या कंपनी है और आपके बिजनेस की तुलना में उनकी ताकत और कमजोरियों को समझने में मदद मिलती है.
  • उत्पाद रिसर्च (Product research) : उत्पाद मार्केट रिसर्च यह सुनिश्चित करने का एक महत्वपूर्ण तरीका है कि आपके उत्पाद और सेवाएं बाजार में लॉन्च करने के लिए उपयुक्त हैं, और वे जितना कर सकते हैं उतना अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं या नहीं.

मार्केट रिसर्च महत्वपूर्ण क्यों है?

आइए अब हम जानते हैं कि आखिर क्यों मार्केट रिसर्च इतना महत्वपूर्ण है, मार्केट रिसर्च के कुछ चुनिन्दा फायदे :-

1. मार्केट रिसर्च से बिजनेस को मजबूत बनाने में मदद

आपने यह बात तो जरूर सुनी होगी कि नॉलेज इस पावर अथार्त जिसके पास बेहतर ज्ञान है वह अन्य की तुलना में बेहतर है, इसी बात को ध्यान में रखते हुए आप भी अपने प्रोडक्ट या सेवाओं से संबंधित मार्केट रिसर्च कर सकते हैं और कस्टमर्स के विचार जानते हुए अपने प्रोडक्ट या सेवाओं को तैयार से पहले ही उसमें आवश्यक बदलाव कर सकते हैं, जिस तरह के कस्टमर्स के द्वारा मांग की जाती है.

2. मार्केट रिसर्च से निवेश के रिस्क को कम करना

यदि आपके पास अधिक पूंजी है तो आप कोई भी बिजनेस आसानी से शुरू कर सकते हैं और मार्केट रिसर्च की मदद से आप आसानी से अपने इन्वेस्टमेंट रिस्क को कम भी कर सकते हैं,क्योंकि आपको पहले ही मालूम हो जाएगा कि इस प्रोडक्ट की मार्केट में मांग है या नहीं.

इसके साथ ही मार्केट रिसर्च आपको आने वाली परेशानियों और खतरों से सावधान करने के साथ-साथ फ्यूचर में मिलने वाली अपॉर्चुनिटी के बारे में भी जानकारी प्रदान करता है.

उदाहरण के तौर पर जैसे कि आप अपना कोई नया प्रोडक्ट लांच करते हैं तो आपको ऐसे कुछ फीचर उस प्रोडक्ट से हटाने होंगे जिनकी वर्तमान समय में लोगों को आवश्यकता नहीं होती है और ऐसे कुछ फीचर शामिल करने होंगे जो कि आने वाले वक़्त में कस्टमर्स के लिए इस्तेमाल करने योग्य होंगे, जिससे कि आप अपने सीमित बजट में अपने कस्टमर्स को अपने सामान को खरीदने के लिए आकर्षित कर सकेंगें.

3. मार्केट रिसर्च से स्वयं और प्रतिस्पर्धी बिजनेस की तुलना  

मार्केट रिसर्च की मदद से आपके द्वारा लांच किए गए प्रोडक्ट और आपके सिमिलर कंपनी या बिजनेस के द्वारा लांच किए गए प्रोडक्ट का रिसर्च करवा सकते हैं, इससे आपको पता मालूम हो जाएगा कि आखिर क्यों आपके प्रतिस्पर्धी का प्रोडक्ट आप की तुलना में ज्यादा डिमांड में है या फिर आपके प्रोडक्ट में ऐसी कौन सी खासियत है जिसके कारण लोग आपका प्रोडक्ट खरीदना पसंद कर रहे हैं.

इसी रिसर्च का लाभ उठा कर आप अपने प्रतिस्पर्धी से आगे रह पाने में सफल होंगे, वर्तमान में कई बड़ी मार्केट रिसर्च कंपनीज कार्य कर रही है परंतु आपको इनमें एक बेहतरीन मार्केट रिसर्च कंपनी का चयन कर उसमें निवेश करना होगा जो कि आपके बिजनेस के लिए फायदेमंद साबित हो.

अगर आपका बिजनेस छोटे स्तर का, आप मिनिमम बजट के साथ काम कर रहे हैं, तो मार्केट रिसर्च आपको स्वयं करनी चाहिए और कुछ अच्छे विवरण जुटाकर अपने बिजनेस को बढ़ाना चाहिए.

4. मार्केट रिसर्च से कस्टमर्स की आवश्यकताओं को समझना

किसी भी बिजनेस में लाभ कमाना ही एकमात्र टारगेट नहीं होना चाहिए, बल्कि साथ में कस्टमर्स का विश्वास जीतना भी आप का अहम टारगेट होना चाहिए, जिसे आप उन्हें बेहतरीन गुणवत्ता की सेवा देकर प्राप्त कर सकते हैं.

मार्केट रिसर्च का सबसे बड़ा बेनिफिट यही है कि आपको ज्ञात हो जाता है कि आखिर आप जिस टारगेट कस्टमर बेस को अपना प्रोडक्ट या सेवा बेचना चाहते हैं,उसकी जरूरत और डिमांड क्या है और उसकी जरूरत और डिमांड के अनुसार ही आप अपने प्रोडक्ट या सेवा में बदलाव कर सकते हैं, जो कि आपको आने वाले समय में एक बड़ी कंपनी या बड़े बिजनेस के रूप में स्थापित करने में मदद करेगा.

5. मार्केट रिसर्च से त्वरित जानकारी मिलती है

जैसा कि आपको पता है कि किसी भी प्रोडक्ट या सेवा का मार्केट रिसर्च करने के लिए कई कंपनियां बड़े स्तर पर अपना प्रोग्राम चलाती है,जिससे कि कोई भी कंपनी या बिजनेस आसानी से अपने प्रोडक्ट से संबंधित इंडस्ट्री के बारे में पूरी जानकारी बहुत ही कम समय में प्राप्त कर सकते हैं, जो कि आपके बिजनेस को स्थापित करने में कम समय लगता है.

इसके साथ ही कई बड़ी मार्केट रिसर्च कंपनियां अपने कांटेक्ट बड़ी-बड़ी कंपनियों में काम करने वाले लोगों के साथ भी बना कर रखती है, जिससे कि उस कंपनी के बारे में कुछ अंदर की जानकारी भी प्राप्त हो जाती है कि, कैसे वह कम्पनी अपने प्रोडक्ट को बनाने के अलावा किस तरीके की मार्केटिंग स्ट्रेटेजी को अपनाती है, बस यही दो चीजें होती है जो कि आपके बिजनेस को बड़ा बनाती है.

6. मार्केट रिसर्च से रेपुटेशन को मजबूत बनाना

मार्केट रिसर्च की सहायता से आप बेहतर निर्णय कर पाएंगे, जो कि केवल आपके बिजनेस स्ट्रेटजी को ही विकसित नहीं करेगा, बल्कि साथ ही आपके बिजनेस की प्रोफेशनल रेपुटेशन का विकास भी करेगा जिससे कि आपसे अधिक लोगों के जुड़ने के संभावनाएं बढ़ जाती है जो आप जैसे बिजनेस के साथ जुड़े हुए हैं.

वर्ल्ड इकोनामिक फोरम(WEF) की एक रिपोर्ट के अनुसार विश्व की शीर्ष 10 कंपनियां अपने बजट का लगभग 25 से 30% खर्च मार्केट रिसर्च पर करती है और इसकी वजह से बेहतरीन प्रोडक्ट या सेवाएँ प्रदान कर पाती है, जो कि उस कंपनी में अधिक इन्वेस्ट को आकर्षित करता है और यह अधिक इन्वेस्टमेंट उस कंपनी को और अधिक प्रोडक्ट या सेवाएँ बनाने में मदद करता है, जो कि हर कंपनी चाहती है.

इस प्रकार मार्केट रिसर्च की सहायता से आप लोगों की मांग और उनकी आवश्यकताओं से पहले ही जान पाओगे जिस वजह से आप अपने प्रोडक्ट को उसी के अनुसार बना पाएंगे, यह स्ट्रेटेजी आपके बिजनेस में लाभ कमाने के लिए अति आवश्यक होती है.

आपको ये लेख कैसा लगा, हमें कमेंट कर जरुर बताएं.

धन्यवाद!

FAQs About What is Marketing Research in Hindi

मार्केट रिसर्च के प्रकार क्या हैं?

मार्केट रिसर्च तकनीकों में सर्वे, इंटरव्यूज, फोकस ग्रुप्स और कस्टमर्स अवलोकन शामिल हैं।

😊 यह पोस्ट कितनी अच्छी थी?

5 Star देकर इसे बेहतर बनाएं ⬇️

Average rating 3 / 5. Total rating : 2

रेटिंग देने वाले पहले व्यक्ति बनें

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.