छोड़कर सामग्री पर जाएँ

e-RUPI क्या है? | E Rupi kya hai in Hindi

0
(0)

e-rupi kya hai – भारत के माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने समय-समय पर डिजिटल पहल की शुरुआत की है। पिछले कुछ सालों में भारत में एक तरह की डिजिटल क्रांति हुई है। नागरिक भुगतान के डिजिटल तरीकों के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं जिससे जीवन स्तर में सुधार हुआ है। आज हम इस लेख के माध्यम से आपको ई-आरयूपीआई/e-RUPI डिजिटल पेमेंट प्लेटफॉर्म के बारे में बताने जा रहे हैं।

e-RUPI प्लेटफॉर्म एक ऐसा उपकरण है जिसके जरिए इसके यूजर्स डिजिटल पेमेंट कर सकते हैं। इस लेख को पढ़ने से आपको इस भुगतान तंत्र का पूरा विवरण जैसे e-RUPI क्या है?, e-RUPI के उद्देश्य, e-RUPI के लाभ,e-RUPI के कार्य, डाउनलोड प्रक्रिया आदि का पता चल जाएगा। इसलिए यदि आप e-RUPI डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको इस लेख को अंत तक बहुत सावधानी से पढ़ना होगा।

यहाँ आप ये सब पढ़ेंगे (Topic Shortcut) छुपाएं

e-RUPI क्या है? (E Rupi kya hai in Hindi)

नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया(National Payments Corporation of India – NPCI/एनपीसीआई) ने वित्तीय सेवा विभाग (DFS), राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (NHA), स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW) और साझेदार बैंकों के सहयोग से एक अभिनव डिजिटल समाधान शुरू किया है – ‘ई- रुपी/ e-RUPI ‘

2 अगस्त 2021 को, भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी e-RUPI डिजिटल प्लेटफॉर्म नामक एक डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है।

इस एकमुश्त भुगतान तंत्र के उपयोगकर्ता, ई-आरयूपीआई/e-RUPI स्वीकार करने वाले व्यापारियों के पास कार्ड, डिजिटल भुगतान ऐप या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस के बिना वाउचर को भुनाने या रिडीम करवाने में सक्षम होंगे। ई- रुपी/ई-आरयूपीआई को लाभार्थियों के साथ एक विशिष्ट उद्देश्य या गतिविधि के लिए संगठनों या सरकार द्वारा एसएमएस या क्यूआर कोड के माध्यम से उपयोगकर्ताओं के मोबाइल पर पहुंचाया जाएगा, इसको भुनाने या रिडीम करवाने के लिए उपयोगकर्ता के पास इन्टरनेट होना आवश्यक नहीं है, जिससे ये ग्रामीण क्षेत्र में आसानी से काम करेगा।

ई-आरयूपीआई/e-RUPI संपर्क रहित, आसान, सकुशल और सुरक्षित है क्योंकि यह लाभार्थियों के विवरण को पूरी तरह से गोपनीय रखता है। इस वाउचर के माध्यम से पूरी लेन-देन प्रक्रिया अपेक्षाकृत तेज़ और साथ ही विश्वसनीय है, क्योंकि वाउचर में आवश्यक राशि पहले से ही संग्रहीत है।

इसे भी पढ़ें : म्यूचुअल फंड के बारे में 10 प्रसिद्ध झूठ, जो आपको जानने ही चाहिए

e rupi full form क्या है?

ई- रुपी का मतलब इलेक्ट्रॉनिक रूपी से है, यानी डिजिटल रुपया. ई-रुपी मूल रूप से एक डिजिटल वाउचर है, जो एक उपयोगकर्त्ता को उसके मोबाइल फोन पर एसएमएस या क्यूआर कोड के रूप में प्राप्त होता है. यह एक प्रीपेड वाउचर होता है, जिसे वह भविष्य में इसे स्वीकार करने वाले किसी भी सेंटर या दुकान पर भुना सकता है. यानी इससे बिना इन्टरनेट की मदद से पेमेंट कर सकता है, या प्राप्त कर सकता है.

ई रूपी क्या है,
e rupi download,
e rupi app,
e rupi लॉन्च,
e rupi download apk,
ई रुपया,
e rupi app download,
e rupi लॉन्च download
what is e rupi in hindi

ई-आरयूपीआई(e-RUPI) डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म के उपयोग

ई-आरयूपीआई प्लेटफॉर्म की मदद से सर्विस प्रोवाइडर का पेमेंट, ट्रांजैक्शन के पूरा होने के बाद ही किया जाएगा। यह भुगतान प्लेटफॉर्म प्रीपेड प्रकृति का होगा जिसे सेवा प्रदाता को भुगतान करने के लिए किसी भी प्रकार के मध्यस्थ की आवश्यकता नहीं होती है, जैसे : Phone pe, Google pay। इसके अलावा, e-RUPI डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग उन योजनाओं के तहत सेवाएं प्रदान करने के लिए भी किया जा सकता है जो दवाएं और पोषण संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए हैं, जैसे मातृ एवं शिशु कल्याण योजना, टीबी उन्मूलन कार्यक्रम, दवा और निदान जैसी सहायता प्रदान करने के लिए हैं।

निजी क्षेत्र भी अपने कर्मचारी कल्याण और कॉर्पोरेट सामाजिक जिम्मेदारी कार्यक्रमों के लिए इन डिजिटल वाउचर का लाभ उठा सकते हैं। इस पहल के माध्यम से कल्याणकारी सेवाओं का लीक प्रूफ क्रांतिकारी वितरण सुनिश्चित किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें : बैंक खाते के मोबाइल नंबर कैसे बदलें

ई-रूपी वाउचर जारी करने की प्रक्रिया

ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान प्रणाली को भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम( NPCI ) ने अपने यूपीआई/UPI प्लेटफॉर्म पर विकसित किया है। भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम उन बैंकों में शामिल हो गया है जो वाउचर जारी करने वाले प्राधिकारी होंगे। कॉर्पोरेट या सरकारी एजेंसी को उस विशिष्ट व्यक्ति और उद्देश्य के विवरण के साथ साझेदार बैंक (निजी और सार्वजनिक क्षेत्र के ऋणदाताओं) से संपर्क करना आवश्यक है, जिसके लिए भुगतान करना आवश्यक है। लाभार्थियों की पहचान बैंक द्वारा आवंटित उनके मोबाइल नंबर वाउचर का उपयोग करके की जाएगी। e-RUPI हमारी क्रांतिकारी डिजिटल पहल होगी जो जीवन स्तर में सुधार करेगी और भुगतान की प्रक्रिया को सरल बनाएगी।

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम के बारे में

भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम एक ऐसा संगठन है जो भारत में खुदरा भुगतान और निपटान प्रणाली के संचालन के लिए जिम्मेदार है। यह संगठन भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय बैंकों के संघ द्वारा शुरू किया गया है। यह संगठन भारत में मजबूत भुगतान और निपटान (payment and settlement) बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम 2017 के प्रावधान के तहत काम करता है।

नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया एक गैर-लाभकारी संगठन है जो कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 8 के प्रावधान के तहत काम करता है। एनपीसीआई प्रौद्योगिकी के उपयोग के माध्यम से भौतिक और इलेक्ट्रॉनिक भुगतान और निपटान प्रणाली के लिए भारत में बैंकिंग प्रणाली के लिए बुनियादी ढांचे को बनाए रखने के लिए भी जिम्मेदार है।

यह संगठन प्रौद्योगिकी की शुरुआत करके भुगतान प्रणाली में नवाचार लाने पर ध्यान केंद्रित करता है। एनपीसीआई के प्रमोटर बैंक भारतीय स्टेट बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, आईसीआईसीआई बैंक, एचडीएफसी बैंक, सिटी बैंक और एचएसबीसी हैं।

इसे भी पढ़ें : NEFT, RTGS और IMPS में क्या अंतर है

ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म का शुभारंभ

ई-रूपी डिजिटल प्लेटफॉर्म को 2 अगस्त 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए लॉन्च किया गया था। इस वीडियो कांफ्रेंसिंग में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने e-RUPI का शुभारंभ किया है। e-RUPI पेमेंट प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने के मौके पर राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री के साथ-साथ इस प्लेटफॉर्म की झलकियां भी उपलब्ध कराई हैं. इस प्लेटफॉर्म को लॉन्च करने के मौके पर पहली बार e-RUPI/ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान का उपयोग मुंबई के एक निजी टीकाकरण केंद्र में दिखाया गया था।

ई-रूपी डिजिटल भुगतान का उद्देश्य

ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म का मुख्य उद्देश्य कैशलेस और संपर्क रहित भुगतान प्रणाली प्रदान करना है ताकि नागरिक बिना किसी कठिनाई के डिजिटल भुगतान कर सकें। इस पेमेंट प्लेटफॉर्म की मदद से यूजर्स सुरक्षित तरीके से पेमेंट कर सकते हैं। यह भुगतान प्लेटफॉर्म एक क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग-आधारित ई-वाउचर का उपयोग करता है जो लाभार्थी के मोबाइल पर वितरित किया जाएगा।

ई-रूपी डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म किसी मध्यस्थ (फ़ोनपे, गूगलपे) की भागीदारी के बिना सेवाओं का समय पर भुगतान सुनिश्चित करता है। भुगतान करने के लिए उपयोगकर्ताओं को कोई कार्ड या डिजिटल भुगतान ऐप ले जाने या इंटरनेट बैंकिंग एक्सेस की आवश्यकता नहीं है जो भुगतान प्रक्रिया को सरल और सुरक्षित बना देगा ।

ई-रूपी के साथ लाइव बैंकों की सूची

Sr. No.Bank NameIssuerAcquirerAcquiring App / Entity
1Axis BankBharat Pe
2Bank of BarodaBHIM Baroda Merchant Pay
3Canara Bank NA
4HDFC BankHDFC Business App
5ICICI BankBharat Pe & PineLabs
6Indusind Bank NA
7Indian Bank NA
8Kotak Bank NA
9Punjab National BankPNB Merchant Pay
10State Bank of IndiaYONO SBI Merchant
11Union Bank of India NA

ई-रूपी डिजिटल भुगतान की विशेषताएं

  • e-RUPI प्लेटफॉर्म कैशलेस और कॉन्टैक्टलेस होगा
  • ई-रूपी के माध्यम से उपयोगकर्ता क्यूआर कोड या एसएमएस स्ट्रिंग आधारित ई-वाउचर के माध्यम से डिजिटल भुगतान कर सकते हैं
  • यह वाउचर यूजर्स के मोबाइल पर डिलीवर करेगा
  • उपयोगकर्ता इस वाउचर को बिना किसी भुगतान ऐप, इंटरनेट बैंकिंग या कार्ड के रिडीम कर सकते हैं
  • भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम ने अपने यूपीआई प्लेटफॉर्म पर ई-रुपी डिजिटल भुगतान सेवा विकसित की है।
  • सहयोगी भागीदार वित्तीय सेवा विभाग, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण हैं
  • इस पहल के माध्यम से सेवाओं के प्रायोजक को लाभार्थियों और सेवा प्रदाताओं से जोड़ा जाएगा। यह कनेक्शन किसी भी प्रकार के भौतिक इंटरफेस के बिना डिजिटल तरीके से आयोजित किया जाएगा
  • ई-रुपी प्लेटफॉर्म के माध्यम से सेवा प्रदाता को भुगतान लेनदेन पूरा होने के बाद किया जाएगा, जिससे भुगतान अटकने का खतरा उपयोगकर्ता पर नहीं बनेगा
  • यह भुगतान मंच प्रकृति में प्रीपेड है
  • ई-आरयूपीआई/ई-रुपी को भुगतान करने के लिए किसी भी प्रकार के सेवा प्रदाता की आवश्यकता नहीं है
  • इस मंच का उपयोग उन योजनाओं के तहत सेवाएं प्रदान करने के लिए भी किया जा सकता है जो दवाएं और पोषण संबंधी सहायता प्रदान करने के लिए हैं।

इसे भी पढ़ें : क्रेडिट कार्ड कैसे काम करता है, क्या इसे लेना अच्छा है, आइये समझते हैं

E Rupi kya hai

ई-रुपी/ई-आरयूपीआई के लाभ

उपभोक्ता को लाभ
Benefits to the Consumer
1. संपर्क रहित – लाभार्थी को वाउचर का प्रिंट आउट नहीं लेना चाहिए
2. आसान रिडेम्पशन – टू-स्टेप रिडेम्पशन प्रक्रिया
3. सकुशल और सुरक्षित – रिडेम्पशन के दौरान लाभार्थी को व्यक्तिगत विवरण साझा करने की आवश्यकता नहीं होती है इसलिए गोपनीयता बनाए रखी जाती है
4. कोई डिजिटल या बैंक उपस्थिति की आवश्यकता नहीं है – वाउचर को भुनाने वाले उपभोक्ता के पास डिजिटल भुगतान ऐप या बैंक खाता जरुरी नहीं
अस्पतालों के लिए लाभ
Benefits for Hospitals
1. आसान और सुरक्षित – वाउचर सत्यापन कोड के माध्यम से अधिकृत है
2. परेशानी मुक्त और संपर्क रहित भुगतान संग्रह – नकद या कार्ड के संचालन की आवश्यकता नहीं है
3. फ़ास्ट रिडेम्पशन प्रक्रिया – वाउचर को कुछ चरणों में भुनाया जा सकता है और पहले से तय राशि के कारण अस्वीकृत होने का खतरा कम
कॉर्पोरेट्स के लिए लाभ
Benefits for Corporates
1. कॉर्पोरेट अपने कर्मचारियों की भलाई के लिए शुरू कर सकते हैं
2. अंत से अंत तक डिजिटल लेनदेन और इसके लिए किसी भौतिक निर्गमन की आवश्यकता नहीं होती है, जिससे लागत में कमी आती है
3. वाउचर रिडेम्पशन को जारीकर्ता द्वारा ट्रैक किया जा सकता है
4. त्वरित, सुरक्षित और संपर्क रहित वाउचर वितरण

ई-रुपी पर लाइव अस्पतालों की सूची देखें

  • सबसे पहले नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं
  • आपके सामने होम पेज खुलेगा
  • होमपेज पर ‘what we do> e-RUPI’ > विकल्प पर क्लिक करें
  • उसके बाद आपको e-RUPI Live Partners पर क्लिक करना है
  • यहाँ आपको Live Banks & Acquirers on e-RUPI और Live Hospitals on e-RUPI की लिस्ट मिल जाएगी, जिसे देखना चाहते हैं उसपर क्लिक कर देख सकते हैं.
  • उसके बाद आपको Live Hospitals on e-RUPI पर क्लिक करना है
  • आपके सामने एक पीडीएफ फाइल आ जाएगी
  • इस पीडीएफ फाइल में आप e-RUPI/ई-आरयूपीआई पर लाइव अस्पतालों की सूची देख सकते हैं।

ई-रुपी/ई-आरयूपीआई डिजिटल भुगतान मोबाइल ऐप डाउनलोड कैसे करें

  • सबसे पहले अपने मोबाइल फोन में Google play store या Apple App Store ओपन करें
  • अब सर्च बॉक्स में आपको e-RUPI Digital Payment दर्ज करना है
  • उसके बाद आपको search पर क्लिक करना है
  • आपके सामने ऐप्स की एक सूची प्रदर्शित होगी
  • आपको पहले विकल्प पर क्लिक करना है
  • उसके बाद आपको install पर क्लिक करना है
  • ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI डिजिटल भुगतान मोबाइल ऐप आपके डिवाइस में डाउनलोड हो जाएगा

इसे भी पढ़ें : क्रेडिट स्कोर कैसे बढ़ाएं

ई-आरयूपीआई वाउचर को भुनाने की प्रक्रिया

  • लाभार्थी को सेवा प्रदाता आउटलेट/स्टोर/ऑफिस/हॉस्पिटल पर ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI क्यूआर कोड या एसएमएस दिखाना होगा
  • विक्रेता को इस क्यूआर कोड या एसएमएस को स्कैन करने की आवश्यकता है
  • अब लाभार्थी के माध्यम से एक ओटीपी प्राप्त होगा
  • लाभार्थी को इस ओटीपी को सेवा प्रदाता के साथ साझा करना होगा
  • सेवा प्रदाता को इस ओटीपी को ओटीपी बॉक्स में दर्ज करना होगा
  • अब सर्विस प्रोवाइडर को प्रोसीड पर क्लिक करना होगा
  • सेवा प्रदाता को भुगतान हो जाएगा

हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number)

e-RUPI in Hindi लेख के माध्यम से, हमने आपको ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI डिजिटल भुगतान के संबंध में सभी महत्वपूर्ण विवरण प्रदान किए हैं। यदि आप अभी भी किसी भी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप अपनी समस्या के समाधान के लिए विभाग के हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं। ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI का हेल्पलाइन नंबर 18001201740 है।

इन्हें भी पढ़ें :

ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/E Rupi kya hai FAQs

  1. क्या ई-आरयूपीआई एक क्रिप्टोकरेंसी है?

    क्रिप्टोकरेंसी और ई-आरयूपीआई दोनों अलग-अलग हैं। हालांकि, केवल समानता यह है कि दोनों एक मध्यस्थ पर निर्भर नहीं हैं, जिसका अर्थ है कि हस्तांतरण सीधे किसी के लिए किया जाता है।

  2. ई-आरयूपीआई/ई-रूपी का उपयोग कौन कर सकता है?

    जिन लोगों को ई-रुपी वाउचर आवंटित किए गए हैं, वे उनका उपयोग कर सकते हैं। पीएमओ के बयान के मुताबिक सरकार इस सिस्टम का इस्तेमाल आयुष्मान भारत, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, उर्वरक सब्सिडी आदि में भी कर सकते हैं.

  3. ई-आरयूपीआई/ई-रूपी क्या है?

    ई-आरयूपीआई कैशलेस भुगतान की सुविधा के लिए एक बार उपयोग किया जाने वाला डिजिटल समाधान है जो विभिन्न सेवाओं जैसे COVID वैक्सीन, दान, कॉर्पोरेट उपहार वाउचर, आदि के लिए व्यक्ति और उद्देश्य विशिष्ट समाधान है।

  4. ई-रूपी/ई-आरयूपीआई कौन जारी कर सकता है?

    ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI केवल आरबीआई द्वारा Prepaid Payment Instruments (पीपीआई) जारी करने के लिए अधिकृत बैंकों द्वारा जारी किया जा सकता है और जो यूपीआई पारिस्थितिकी तंत्र में भुगतान सेवा प्रदाता (पीएसपी) के रूप में भाग ले रहे हैं (जिसे “जारीकर्ता/Issuer” के रूप में संदर्भित किया गया है)।

  5. वाउचर बनाने के लिए अधिकतम राशि क्या है?

    प्रत्येक ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI की अधिकतम सीमा 10,000 रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए या जैसा कि नियामक द्वारा परिभाषित किया गया है

  6. क्या e-RUPI को नकद/कैश बैक के लिए भुनाया जा सकता है?

    ई-रूपी/e-RUPI को केवल ई-रूपी/e-RUPI जारी करने के समय जारीकर्ता द्वारा परिभाषित वैध मर्चेंट कैटेगरी कोड (एमसीसी) वाले निर्दिष्ट मर्चेंट से माल और सेवाओं की खरीद के लिए रिडीम करने की अनुमति होगी। ई-आरयूपीआई को रिडेम्पशन पर कैश आउट या कैश बैक के लिए अनुमति नहीं दी जाएगी।

  7. एक उपयोगकर्ता के लिए कितने e-RUPI वाउचर जारी किए जा सकते हैं?

    एक मोबाइल नंबर/प्रति लाभार्थी पर एक कार्यक्रम के लिए अधिकतम 10 ई-आरयूपीआई/ई-रूपी/e-RUPI वाउचर जारी किए जा सकते हैं; इसमें योजना की आवश्यकताओं के अनुसार बदलाव सम्भव है

😊 यह पोस्ट कितनी अच्छी थी?

5 Star देकर इसे बेहतर बनाएं ⬇️

Average rating 0 / 5. Total rating : 0

रेटिंग देने वाले पहले व्यक्ति बनें

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.